shani saade saati
शनिदेव

शनि की साढ़े साती के कष्ट के बारे में सभी लोग जानते ही है,लेकिन मात्र एक छोटे से उपाय और साढ़े सात सप्ताह में ही साढ़े साती के कष्ट मुक्ति का पूर्ण प्रभाव प्राप्त करे।

इस उपाय के लिए आपको तीन मुख्य वस्तुओ की जरुरत होगी पहला उन्नीस वर्ष या उससे अधिक के आठ पुराने सिक्के, दूसरा सिन्दूर,और तीसरा सरसो का तेल,इस प्रयोग को पूरा होने में आपको सात शनिवार और एक मंगलवार की अवधि लग जायेगी।


सर्वप्रथम आपको शुरुआत शनिवार से करनी है, उस दिन आपको अपने पहले हनुमान जी के मंदिर जाना है,हनुमान जी की पूजा आराधना करते हुए एक पुराना सिक्का हनुमान जी की मूर्ति के पाँव में अर्पित करते हुए उस सिक्के पर थोड़ा सिंदूर डालते हुए,हनुमान जी से साढ़े साती कष्ट मुक्ति के लिए मनोकामना का नमन करना है, उसके बाद उसी दिन आपको नजदीकी शनि मंदिर जाना है शनिदेव का नमन करते हुए शनि मूर्ति पर आधा सरसो का तेल अर्पित करना है और बचा आधा तेल मंदिर के आस पास या कही भी किसी जरूरतमंद को वो बचा आधा तेल दान कर देना है।


ये प्रक्रिया आपको लगातार सात शनिवार करनी है बिना बीच में रुके या व्यवधान के,
उसके बाद जो आखिरी शनिवार रहेगा उसके तीन दिन बाद आने वाले मंगलवार के दिन यही प्रक्रिया आपको अंतिम बार दोहरानी है,इसके बाद आपका शनि साढ़े साती उपाय का प्रयोग यही समाप्त हो जायेगा, और आपको ये साढ़े साती का कष्ट साढ़े सात साल झेलने से मुक्ति का प्रभाव प्राप्त होगा।
ये प्रयोग नजदीकी सदस्य पर आजमाया हुआ है,इस प्रयोग का लाभ आप भी इस छोटी सी प्रक्रिया द्वारा प्राप्त कर सकते है। विशेष ध्यान रखे सभी सिक्के उन्नीस साल या उससे अधिक ही पुराने होने चाहिए तभी इसका कष्ट मुक्ति का प्रभाव प्राप्त होगा, अगर इस मापदंड के सिक्के आपके पास उपलब्ध ना हो तो आप नीचे दिए हुए लिंक से आठ पुराने सिक्को का पूर्ण सेट प्राप्त कर सकते है।

https://www.manngemstone.com/product/coin/

आप हमारी वेबसाइट या ऍप्लिकेशन द्वारा मुफ्त जन्म कुंडली विश्लेषण का लाभ भी प्राप्त कर सकते है, ये निशुल्क सेवा सिर्फ सीमित समय तक के लिए ही उपलब्ध है।

अपनी जन्म कुंडली का विवेचन या कोई भी प्रश्न निशुल्क पूछने के लिए सम्पर्क करे।

PLAY STORE APP:- https://bit.ly/31MJ0Tc (मन ज्योतिष विज्ञान)
WEBSITE:- www.mannjyotishvigyan.com
Y
OUTUBE:- https://bit.ly/2WVA5jv

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *